adsence

प्रॉक्सी सर्वर कैसे काम करता है?

proxy server kaise kam karta hai

आज हम लोग जो भी डिवाइस जैसे की मोबाइल, कंप्यूटर का उपयोग करते है, इन सभी का अपना एक Unique IP Address होता है, और जब कभी हम लोग अपनी इस डिवाइस के द्वारा इंटरनेट के मध्यम से किसी भी Website पर जाते है।

तो उस website के सर्वर के पास आपके डिवाइस के बारे मे सारी जानकारी सेव हो जाती है की आप इंटरनेट पर क्या देख्ग्ते है और क्या सर्च करते है, और आपके डिवाइस का  IP एड्रेस क्या है।

लेकिन जब आप लोग आप अपने डिवाइस मे प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग करते है, इसी के द्वारा इंटरनेट पर किसी भी वैबसाइट पर जाते है तो वो website आपके बारे मे कोई भी जानकारी अपने पास सवे नाही कर पाता है।

प्रॉक्सी सर्वर कैसे काम करता है?

प्रॉक्सी सर्वर के काम करने का तरीका बाकी के सर्वर से बिलकुल ही अलग होता है, जब आप प्रॉक्सी सर्वर के द्वारा आपने इंटरनेट पर कुछ भी सर्च करते है।

तो सबसे पहले प्रॉक्सी सर्वर आपकी request को उस वैबसाइट तक पहुचाता है, और फिर वह website प्रॉक्सी सर्वर की सर्च request को अपने सर्वर तक पहुचाता है।

और फिर वैबसाइट के द्वारा दिये गए रिज़ल्ट को प्रॉक्सी सर्वर वापस यूजर के system पर दिखाता है।

जब कोई भी User Request को प्रॉक्सी सर्वर website या सर्वर तक पहुंचाता है तो प्रॉक्सी सर्वर अपके सिस्टम के IP Address का उपयोग ना करके अपने सर्वर के द्वारा बनाए गए खुद का IP Address का उपयोग करता है।

इससे website के server के पास आपके डिवाइस की कोई भी जानकारी नही पहुँचती है, जिससे वो सर्वर आपकी पर्सनल जानकारी को सेव भी नही कर पाता है।

पहली बार प्रॉक्सी सर्वर के द्वारा यूसर के द्वारा सर्च किए गए जानकी को प्रॉक्सी सर्वर अपने कैश फ़ाइल मे सेव कर लेता है, जिससे जब भी यूसर कुछ भी दुबारा प्रॉक्सी सर्वर के द्वारा इंटरनेट पर कुछ भी सर्च करने के लिए request भेजता है।

तो सबसे पहले प्रॉक्सी सर्वर उस request को अपने कैश फ़ाइल मे सर्च करता है, और जब जानकारी इसे लोकल कैश मे नही मिलती है, तब उसके बाद यह आपकी request को इंटरनेट को भेजता है, और फिर किसी भी website से जानकारी ले कर यूसर को दिखाता है।

प्रॉक्सी सर्वर का क्या काम है?

प्रोक्सी सर्वर का काम होता है कि यह यूजर के सिस्टम के IP Address को इंटरनेट की सभी Website या सर्वर से सुरक्षित रखें जिससे उसकी पर्सनल जानकारी अन्य लोगों तक आसानी से ना पहुंच सके।

प्रोक्सी सर्वर सबसे मेन काम होता है कि यह यूजर के सिस्टम और इंटरनेट के बीच में रहकर Intermediate का काम करें, जिससे यह यूजर के सिस्टम को सुरक्षा प्रदान कर सके।

उदाहरण के लिए, यदि आप Netflix पर जाकर कोई भी मूवी देखना चाहते हैं तो आप सबसे पहले Netflix का URL टाइप करेंगे और फिर इंटर दबाकर उस फिर साइड पर पहुंच जाएंगे।

लेकिन यदि आप प्रोक्सी सर्वर का उपयोग करते हैं तो यह आपको Netflix से सीधे जोड़ने के बजाय, सबसे पहले आपकी Request को प्रॉक्सी सर्वर द्वारा इंटरसेप्ट किया जाता है, और फिर प्रोक्सी सर्वर आपके अनुरोध को अपने सर्वर से update करता है।

और अपने सर्वर के IP address से Netflix server पर अनुरोध भेजता है, तब प्रॉक्सी सर्वर Netflix के सर्वर से डेटा लेता है, और अपके सुरक्षा मुद्दों की जाँच करता है, और फिर यह आपके कंप्यूटर पर डेटा दिखाना सुरू कर देता है।

प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग क्या है?

प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग User अपनी और अपने system की जानकारी को internet के server से Hide करने के लिये करते है, यह internet के data को बताता है कि कहा जाना है, यह एक address की तरह ही काम करता है।

इसके साथ-साथ इसका उपयोग और भी अलग-अलग तरीकों से किया जाता है-

  • नेटवर्क सुरक्षा को बढ़ाने के लिये प्रोक्सी सर्वर का उपयोग किया जाता है।
  • अपने नेटवर्क से मैलवेयर साइट्स को ब्लॉक करने के लिए प्रोक्सी सर्वर का उपयोग किया जाता है।
  • वेबसाइटों को कैश करने के लिये जिससे Internet को केवल एक ही अनुरोध किया जा सके।
  • Spam डोमेन को ब्लॉक करने के लिये।
  • किसी अन्य देश की जानकारी पढ़ने या उस तक पहुंचने के लिए प्रोक्सी सर्वर का उपयोग किया जाता है।

प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग क्यों किया जाता है?

जैसा कि आपको पता है कि इंडिया में Tik Tok और Pubg जैसे server बंद कर दिए गए हैं, और इसके साथ साथ आपने देखा होगा कि कुछ School और College या फिर Office मे कुछ वेबसाइट को ब्लॉक या बंद कर दिया जाता है जिन्हें आप आसानी से Access नहीं कर सकते।

तो ऐसे में हम लोग इन Block वेबसाइट को Open करने के लिये प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग करते है। और इसके साथ साथ प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग हम लोग internet Security से जुडी सुविधा प्रदान करने के लिये भी करते है।

प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग कैसे करें?

सभी लोग प्रोक्सी सर्वर का उपयोग अपने लिए अलग अलग तरीके से करते हैं जैसे कि कुछ लोग इसका उपयोग अपने पर्सनल कर्य जैसे की ऑनलाइन फिल्में या विडियो देखते समय अपना लोकेशन या अपने System का IP Address छिपाने के लिये करते है।

तो कुछ कंपनी अपने और हमारे लिये कुछ अच्छे कार्य के लिए इसका उपयोग करती है जैसे कि इंटरनेट सुरक्षा में सुधार करने के लिये, लोगो की इंटरनेट गतिविधि पर नजर रखने के लिये, दुर्घटनाओं  और इंटरनेट ट्रैफिक मे संतुलित बनाने के लिये इसका उपयोग करते है।

FAQ:-

प्रॉक्सी सर्वर का क्या काम है?

प्रोक्सी सर्वर सबसे मेन काम होता है कि यह यूजर के सिस्टम और इंटरनेट के बीच में रहकर Intermediate का काम करें, जिससे यह यूजर के सिस्टम को सुरक्षा प्रदान कर सके।

प्रॉक्सी सर्वर कैसे काम करता है?

प्रॉक्सी सर्वर आपकी request को उस वैबसाइट तक पहुचाता है, और फिर वह website प्रॉक्सी सर्वर की सर्च request को अपने सर्वर तक पहुचाता है। और फिर वैबसाइट के द्वारा दिये गए रिज़ल्ट को प्रॉक्सी सर्वर वापस यूजर के system पर दिखाता है।

प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग क्या है?

प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग User अपनी और अपने system की जानकारी को internet के server से Hide करने के लिये करते है, यह एक address की तरह ही काम करता है, यह internet के data को बताता है कि कहा जाना है।

प्रॉक्सी सर्वर कितने प्रकार के होते है?

प्रॉक्सी सर्वर भिन्न भिन्न प्रकार के होते हैं और इनका काम भी अलग-अलग होता है-
1).फारवर्ड प्रॉक्सी सर्वर, 2).रिवर्स प्रॉक्सी सर्वर, 3).एसएसअल प्रॉक्सी सर्वर, 4).बेनामी प्रॉक्सी सर्वर, 5). डाटा सेंटर प्रॉक्सी सर्वर, 6).साझा प्रॉक्सी सर्वर, 7).उच्च गुमनामी प्रॉक्सी सर्वर, 8)घूर्णन प्रॉक्सी सर्वर।

हैकर प्रॉक्सी सर्वर का उपयोग क्यों करता है?

 हैकर प्रॉक्सी सर्वर का उपयोगआमतौर पर किसी भी नेटवर्क पर अपनी सभी प्रकार की गतिविधि को छिपाने के लिए करता है, जिससे उसका पता आसानी से किसी भी अन्य User को ना चल जाये।

Scroll to Top