Web Security क्या है?

Web Security को हिंदी मे वेब सुरक्षा कहा जाता है, जो Cyber Security के रूप में भी जाना जाता है॥ जो हमारी Websites और Server को Online होने वाले Attack और Hackers से बचाती है, इसमें क्लाउड सिक्योरिटी और वेब एप्लीकेशन सिक्योरिटी भी शामिल है।

Web Security का उद्देश्य Sensitive Data को प्रतिबंधित खोज और Hackers के हमलों से बचाना है, Web security मे website security software के माध्यम से मैलवेयर के लिए URL को स्कैन करके Website को बचाता है।

आज कल ज्यादातर Websites को व्यवसाय, सरकारी एजेंसियों और व्यक्तियों द्वारा Use किया जा रहा है, जिससे  इंटरनेट से जुड़ने वाले, केबल मोडेम और नेटवार्क की संख्या बढ़ती रहा है।

आजकल लाखों लोग इंटरनेट का उपयोग कर रहे हैं जिसके साथ साथ इंटरनेट के माध्यम से हमें बहुत सारे ऑनलाइन खतरो का भी सामना करना पड़ता है।

दोस्तों अगर आपके पास एक वेबसाइट है और यदि आपको Web Security के बारे में अच्छे से नहीं पता है और इसे अपनी वेबसाइट पर उपयोग नहीं किया है तो आपको एक बहुत बड़ा नुकसान होने वाला हैं।

इस नुकसान से बचने के लिए आपको आपकी वेबसाइट पर होने वाले खतरे के बारे में पहले से पता होना चाहिए तो चलिए जानते हैं कि Web Security क्या है? और कैसे काम करता है।

Web Security क्या है?

Web Security एक ऐसी Technology है, जो हमारी वेबसाइट और उस पर Use होने वाले Servers को Hackers और वायरस से बचाता है, Web Security उपयोगकर्ता को ऑनलाइन खतरो से बचाती है और उसके बारे में जानकारी भी देती हैजिससे आप उनसे बच सके।

अन्य शब्दों में कहे तो Web Security, Security नियमों का एक समूह होता है, जिसका कार्य वेबसाइट और सर्वर को Hackers के Attack और Virus से बचाना होता है, ताकि वेबसाइट और सर्वर पर मौजूद सारा डेटा Hacker से सुरक्षित रह सके।

Web Security एक येसी सुरक्षात्मक उपायों और प्रोटोकॉल को बताता है, जो Cyber Security और Web Security से संबंधित है।

और सरल शब्दो में कहे तो वेब सिक्योरिटी का इस्तेमाल Websites पर मौजूद डेटा को बचाने के लिए किया जाता है।

इसमें बहुत से विभिन्न प्रकार के खतरे शामिल है जैसे :- वायरस, Unauthorized Access, E-mail Spamming आदि।

वेब सिक्योरिटी का उपयोग VPN (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) को सुरक्षा प्रदान करने के लिए भी किया जाता है।

इसे भी पढ़ें 👉 Computer को Virus से कैसे बचाये

Websites पर खतरो के प्रकार

वेबसाइट पर हैकर रोज अलग-अलग तरह के अटैक करते रहते हैं जो कि कुछ इस प्रकार निम्नलिखित है-

  • Phishing:- इसमें हैकर्स यूजर्स को किसी भी चीज का लालच देकर उसे चारा बनाकर फंसा लेते हैं।
  • Virus and worms:- इसमें हैकर वेबसाइट पर किसी भी प्रकार का एक वायरस छोड़ देते हैं जिससे आने वाले यूजर्स के सिस्टम में वह चला जाता है और उसे नुकसान पहुंचाता है।
  • Spyware:- यह एक सॉफ्टवेयर की तरह कार्य करता है जब वेबसाइट पर कोई भी वायरस आ जाता है तो वह यूजर को इन्फॉर्म कर देता है।
  • E-mail Bombing and Spamming:- इसमे हैकर यूजर को एक साथ कई सारी फालतू की ईमेल भेज देता है।
  • E-mail spoofing:- ईमेल स्पूफिंग एक ऐसी तकनीक है जिसका उपयोग स्पैम और फ़िशिंग हमलों में उपयोगकर्ताओं को यह सोचने के लिए मजबूर कर देते है कि कोई संदेश किसी ऐसे व्यक्ति या संस्था से आया है जिसे वे जानते हैं या भरोसा कर सकते हैं।
  • Unauthorized access:- जब हैकर किसी भी User के डाटा को हैक कर लेता है तो उसे Access भी कर लेता है जो Unauthorized access मे आता है।
  • Cross site scripting:- इसमें हैकर किसी भी प्रकार की फालतू स्क्रिप्ट को वेबसाइट में ऐड कर देता है जो जूसर को नुकसान पहुंचाती रहती है।
  • SQL injection:- SQL इंजेक्शन एक कोड इंजेक्शन तकनीक है जो आपके डेटाबेस को नष्ट कर सकती है। SQL इंजेक्शन सबसे आम वेब हैकिंग तकनीकों में से एक है।
  • Dial-in penetration attacks:- इसमें हैकर्स आने वाले यूजर्स पर डायरेक्ट अटैक करता है।
  • Denial of service (DoS):- DoS हमला एक मशीन या नेटवर्क को बंद करने के लिए किया गया हमला है, जिससे यह अपने इच्छित उपयोगकर्ताओं के लिए बहुत नुकसानदायक होता है।
  • Packet replay:- इसमें यूजर्स को वही इंफॉर्मेशन बार-बार दिखाई जाती है।

Web Security क्यों महत्वपूर्ण है?

यदि आपकी कोई एक वेबसाइट है और उस वेबसाइट पर आपका कोई पर्सनल डाटा है तो उस डाटा को हैकर से बचाने के लिए वेबसाइट सिक्योरिटी बहुत जरूरी है।

इंटरनेट की सभी वेबसाइट पर कभी भी और कभी भी किसी भी प्रकार से हैकर का हमला हो सकता है, तो वेबसाइट को होने वाले हैं हमले से बचाने के लिए वेब सिक्योरिटी बहुत ही जरूरी है।

क्योंकि हैकर जब अटैक करते हैं तो वह किसी भी वेबसाइट पर अटैक कर सकते हो तो उसमें से आप की वेबसाइट भी हो सकती है।

Web Security टेक्नोलॉजी के प्रकार

Web Security टेक्नोलॉजी निम्नलिखित प्रकार होते है जो कि कुछ इस प्रकार है:-

  • WAF :- WAF का पूरा नाम (वेब एप्लीकेशन फ़ायरवॉल) होता है, जिसका उपयोग वेब एप्लीकेशन की देख रेख के लिए किया जाता है।
  • Vulnerability Scanners:- यह एक प्रकार का Virus स्कैनर है जिसके द्वारा किसी भी organization के द्वारा सिस्टम की कमजोरियों की जांच की जाती है। 
  • Password-cracking Tools:- इसका उपयोग यूजर सिस्टम को एक्सेस करने के लिये करता है जब यूजर पासवर्ड भूल गया होता है।
  • Fuzzing Tools:- इसका उपयोग सॉफ़्टवेयर, नेटवर्क या ऑपरेटिंग सिस्टम के कोड में छुपे Error को पता करने के लिए किया जाता है।

Web Security प्रदान करने वली Technology

Web Security प्रदान करने वली Technology निम्नालिखित है:-

  • Black box testing tools
  • Fuzzing tools
  • White box testing tools
  • Web application firewalls (WAF)
  • Security or vulnerability scanners
  • Password cracking tools

Web Application Security Tools कौन-कौन से हैं?

Web Application Security Tools निम्नलिखित प्रकार के हैं जो कि कुछ इस प्रकार है:-

  1. Organization
  2. Scanning / Pentesting
  3. Runtime Application Self-Protection
  4. Development
  5. Usability
  6. Big Data
  7. DevOps

Web Security के फायदे

Web Security निम्नलिखित फायदे हैं, जो कि कुछ इस प्रकार है:-

  • Hackers के हमलो से Websites और यूजर के डेटा और कंप्यूटर को सुरक्षा प्रदान करती है।
  •  Web Security एक विश्वशनीय प्रक्रिया है।
  • हमारी वेबसाइट का डाटा सुरक्षित रहता है।
  •  Productivity को बढ़ाने में मदद करती है।
  • यूजर्स का विश्वास बढ़ाती है।
  • किसी भी बिजनेस के ब्रांड पर Users से भरोसे को बढ़ाती है।
  • Server को है करके अटैक से बचाती है।
  • वेबसाइट की रैंकिंग को बढ़ाने में मदद करती है।
  • यूजर की पर्सनल जानकारी को सुरक्षित रहती है।
  • Websites को internal attacks से बचाती है।
  • इसका उपयोग करने के लिये ज्यादा पैसे नही लगते।

Web Security के नुकसान

वैसे तो Web Security के कुछ खास नुकसान नहीं है पर कुछ नुकसान निम्नलिखित है:-

  • कुछ मामलो में वेब सिक्योरिटी को उपयोग करना महंगा हो जाता है।
  • एक बड़े Organization में वेब सिक्योरिटी को Apply करने में काफी ज्यादा समय लगता है।
  • इसकी नियमित रूप से निगरानी करनी पड़ती है।
  • इसको बनाने और Develop करने में काफी ज्यादा समय लगता है।
  • ब सिक्योरिटी को समझना बहुत ही कठिन होता है।

FAQ:-

वेब सिक्योरिटी क्या है?

वेब सुरक्षा एक ऐसी तकलीफ है जिसके द्वारा इंटरनेट में मौजूद वेबसाइट और वेब सर्वर की है हैकर से सुरक्षा की जाती है।

वेब सिक्योरिटी के क्या फायदा है?

वेब सिक्योरिटी वेबसाइट और डाटा को बाहरी हमलों से बचाती है, जिससे यूजर को कोई नुकसान नहीं होता है।