OSI Model Kya Hai in Hindi

OSI Model जिसका पूरा नाम Open Systems Interconnection Model होता है. यह एक Standarlized फ्रेमवर्क है जिससे कंप्यूटर और नेटवर्क कम्युनिकेशन को अंडरस्टैंड किया जा सकता है, यह 7 लेयर का Hierarchical मॉडल होता है जिसमें हर क्लियर एक स्पेसिफिक कम्युनिकेशन फंक्शन परफॉर्म करता है।

इस मॉडल मे किसी भी नेटवर्क के दो यूज़र्स के बीच कम्युनिकेशन के लिए एक Reference मॉडल है, और इस मॉडल मे सभी लेयर एक दूसरे पर निर्भर नही होती है, लेकिन फिर भी एक लेयर से दूसरी लेयर में डेटा बहुत ही आसानी से ट्रांसमिशन होता है।

OSI model यह बताता है कि किसी भी  नेटवर्क  के बीच Data को कैसे ट्रांसफर और रिसीव किया जाता है, इसमे सभी layers का  अलग अलग काम होता है, जिससे डाटा का ट्रांसफर आसानी से हो सके।

OSI Model क्या है?

ओएसआई (ओपन सिस्टम्स इंटरकनेक्शन) मॉडल एक ढांचा है जो परिभाषित करता है कि विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार कैसे होना चाहिए। यह एक संदर्भ मॉडल है जो यह समझने में मदद करता है कि नेटवर्क से जुड़े दो या दो से अधिक उपकरणों के बीच संचार कैसे होता है।

OSI मॉडल में सात परतें होती हैं, जिनमें से प्रत्येक का संचार की प्रक्रिया में एक विशिष्ट कार्य होता है:

OSI मॉडल विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार को मानकीकृत करने में मदद करता है और संचार समस्याओं का निवारण करना आसान बनाता है। कंप्यूटर नेटवर्क में संचार कैसे होता है, यह समझने के लिए यह एक उपयोगी संदर्भ मॉडल है।

इसे भी पढ़ें 👉 Social Networking Kya Hai in Hindi

OSI का पूरा नाम क्या है?

OSI मॉडल का पूरा नाम Open System Interconnection Model होता हैं।

OSI मॉडल को किसने बनाया था?

OSI model का पूरा नाम Open System Interconnection है, इसे ISO (International Organization for Standardization) ने सन 1984 में बनाया था, इस मॉडल में 7 layers होते है।

OSI मॉडल का इतिहास

1970 के दशक के अंत में, OSI मॉडल को एक International Organization for Standardization (ISO) द्वारा प्रशासित किया गया था, और उसके बाद दूसरा OSI Model इंटरनेशनल टेलीग्राफ एंड टेलिनल कंसल्टेंसी कमेटी (CCITT) ने प्रशासित किया किया था।

इन दोनों कंपनियों ने मिलकर एक ऐसा इंटरनेशनल स्‍टैंडर्ड बॉडिज नेटवर्क डेवलप किया जिसने एक समान नेटवर्किंग मॉडल को डिफाइन किया।

1983 में, इन दो डयॉक्‍युमेंट को मर्ज किया गया और उसे Open Systems Interconnection का बेसिक रेफरेंस मॉडल नाम दिया गया।

यह स्‍टैंडर्ड आमतौर पर Open Systems Interconnection Reference Model, जिसे OSI Reference Model, या बस OSI मॉडल के रूप में जाना जाता है को रेफर करता हैं।

इसे 1984 में दोनों, ISO ने standard ISO 7498 के रूप में और CCITT (जिसे अब Telecommunications Standardization Sector of the International Telecommunication Union or ITU-T के नाम से जाना जाता हैं) ने standard X.200 के रूप में पब्लिश किया गया।

इसे भी पढ़ें 👉 Network Topology Kya hai In Hindi

7 लेयर OSI मॉडल क्या है?

OSI Model में 7 Layer होते हैं:-

  1. तत्वपूर्ण परिवर्तन स्तर (Physical Layer)
  2. डेटा लिंक स्तर (Data Link Layer)
  3. नेटवर्क स्तर (Network Layer)
  4. ट्रांसपोर्ट स्तर (Transport Layer)
  5. सेशन स्तर (Session Layer)
  6. प्रतिष्ठा स्तर (Presentation Layer)
  7. ऍप्लिकेशन स्तर (Application Layer)

OSI Layer क्या है?

OSI लेयर एक OSI Layer हैं जो Open Systems Interconnection (OSI) मॉडल के अंतर्गत संचार प्रक्रिया को विभाजित करते हैं। OSI मॉडल दो कंप्यूटर सिस्टम्स के बीच संचार की प्रक्रिया को 7 Layer में विभाजित करता है, जो हर एक संचार प्रक्रिया का एक विभिन्न पहलू होता है।

इसमे 7 Layer निम्नलिखित हैं:-

1). फिजिकल लेयर:- यह सबसे नीचे की लेयर होती है, इसमे फिजिकल तथा इलेक्ट्रिकल कनेक्शन किया जाता है जिससे डिजिटल सिग्नल को इलेक्ट्रिकल सिग्नल में बदल जाता है। इसके साथ साथ नेटवर्क की topology अर्थात नेटवर्क के आकार का कार्य भी इसी लेयर मे किया जाता है।

2). डेटा लिंक लेयर:- डेटा लिंक लेयर नीचे से दूसरे नंबर की लेयर है, इसे फ्रेम यूनिट भी कहा जाता है, इस लेयर में नेटवर्क लेयर द्वारा भेजे गए डेटा पैकेटों को decode और encode किया जाता है, और यह भी देखा जाता है कि डेटा पैकेट्स में कोई त्रुटी ना हो।

3). नेटवर्क लेयर:- नेटवर्क लेयर OSI model नीचे से तीसरे नंबर की लेयर है, इसे पैकेट यूनिट भी कहा जाता है, इस लेयर में Data Transfer के लिये switching तथा routing तकनीक का प्रयोग किया जाता है। स Layer का कार्य डिवाइसों को I.P. address प्रदान करना होता है।

4). ट्रांसपोर्ट लेयर:- ट्रांसपोर्ट लेयर OSI model नीचे से चौथी नंबर की लेयर है, इस लेयर को सेगमेंट यूनिट भी कहा जाता है, इसका उपयोग डेटा को नेटवर्क के बीच सही तरीके से ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है, और यह लेयर यह भी दिखाती है कि डाटा ट्रांसफर में कोई भी गलती नहीं हुई है।

5). सेशन लेयर:- ट्रांसपोर्ट लेयर OSI model नीचे से पांचवी नंबर की लेयर है, यह लेयर एक साथ बहुत सारे कंप्यूटरों के मध्य कनेक्शन को नियंत्रित करती है, यह दो डिवाइसों के बीच कम्युनिकेशन के लिए सेशन प्रदान करता है, आसान शब्दों में कहें तो “सेशन लेयर का मुख्य कार्य यह देखना है कि किस प्रकार कनेक्शन को establish, maintain तथा terminate किया जाये”।

6). प्रेजेंटेशन लेयर:- प्रेजेंटेशन लेयर OSI model नीचे से छटवां नंबर की लेयर है, इस लेयर को syntax layer भी कहते हैं, इसका उयोग डेटा का Encryption तथा Decryption के लिए किया जाता है, तथा इसके साथ साथ इसक उपयोग डेटा Compression के लिए भी किया जाता है, क्योकी यह लेयर ऑपरेटिंग सिस्टम से सम्बंधित है।

7). एप्लीकेशन लेयर:- OSI model का यह सातवाँ नंबर की लेयर है, इसका मुख्य कार्य एप्लीकेशन तथा अन्य लयरों के मध्य interface कराना है, इस लेयर के अंतर्गत HTTP, FTP, SMTP तथा NFS आदि प्रोटोकॉल आते है। यह लेयर यह नियंत्रित करती है कि कोई भी एप्लीकेशन किस नेटवर्क से A ccess करेगा है।

इन सभी लेयर को 2 भागों में बांटा गया है जिसमें 1 भाग को Upper Layer और दूसरे भाग को Lower Layer कहा जाता है|

इसे भी पढ़ें 👉 Computer Network Kya Hai In Hindi

Upper Layer क्या है?

OSI Model Layers के अंतर्गत काम करने वाली ऊपर की 3 Layers को Upper Layer कहा जाता है, इसमें Application Layer, Presentation Layer, Session Layer शामिल है, इन Layers में मुख्यता सॉफ्टवेयर कार्य करते हैं।

Lower Layer क्या है?

OSI Model Layers के अंतर्गत काम करने वाली नीचे की 4 Layers को Lower Layer कहा जाता है, इसमें Transport Layer, Network Layer, Data Link Layer, Physical Layer शामिल है, इन Layers में मुख्यता नेटवर्किंग कंपोनेंट कार्य करते हैं।

OSI मॉडल क्यों बनाया गया था?

OSI (ओपन सिस्टम इंटरकनेक्शन) मॉडल को 1970 के दशक के अंत में विभिन्न कंप्यूटर सिस्टम के बीच संचार को मानकीकृत करने के लिए विकसित किया गया था।

अंतर्निहित आर्किटेक्चर की परवाह किए बिना, विभिन्न हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर प्लेटफ़ॉर्म के बीच डेटा के आदान-प्रदान को सुविधाजनक बनाने के लिए इसे डिज़ाइन किया गया था।

Communication Systems के बीच संचार को समझने और व्यवहार को संवीक्षित करने के लिए बनाई गई थी। इसका उद्देश्य संचार प्रणालियों में संचार को समझना और तब्दील करना है।

इससे संचार प्रणालियों के बीच संचार का प्रबंधन आसान होता है और संचार सफलतापूर्वक होता है। OSI Model संचार प्रणालियों के बीच संचार को संवीक्षित करने के अन्य फायदे भी हैं, जैसे कि:

  • इससे संचार प्रणालियों के बीच संचार को आसानी से संबंधित किया जा सकता है।
  • इससे संचार प्रणालियों में व्यवहार को स्थानांतरित किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें 👉 Web 3.0 Kya Hai और ये कैसे बदलेगा इंटरनेट को

OSI मॉडल के लाभ

OSI मॉडल के लाभ निम्नलिखित है:-

  • OSI मॉडल कार्यों का एक स्पष्ट पृथक्करण प्रदान करता है, जिससे यह समझना आसान हो जाता है कि विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार कैसे होता है।
  • यह विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार को मानकीकृत करने में मदद करता है, जिससे विभिन्न तकनीकों और उपकरणों को आपस में जोड़ना आसान हो जाता है।
  • यह अन्य परतों को प्रभावित किए बिना संचार प्रक्रिया के विभिन्न भागों को संशोधित या प्रतिस्थापित करने की अनुमति देता है। इससे नेटवर्क के प्रदर्शन को अपग्रेड करना या सुधारना आसान हो जाता है।
  • OSI मॉडल एक उपयोगी संदर्भ मॉडल है जो यह पहचान कर संचार समस्याओं का निवारण करने में मदद करता है कि मॉडल की कौन सी परत समस्या पैदा कर रही है।
  • यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार कुशल और विश्वसनीय है, जो आज की परस्पर जुड़ी दुनिया में महत्वपूर्ण है।

कुल मिलाकर, OSI मॉडल एक मूल्यवान उपकरण है जो कंप्यूटर नेटवर्क में संचार को समझने और सुगम बनाने में मदद करता है।

OSI मॉडल के लाभ

OSI मॉडल की हानियाँ निम्नलिखित है:-

  • ओएसआई मॉडल एक सैद्धांतिक मॉडल है, और यह हमेशा वास्तविक दुनिया नेटवर्किंग कार्यान्वयन के साथ पूरी तरह से संरेखित नहीं हो सकता है। इससे नेटवर्क बनाने के लिए व्यावहारिक गाइड के रूप में मॉडल का उपयोग करना मुश्किल हो सकता है।
  • OSI मॉडल उन लोगों के लिए जटिल और समझने में मुश्किल हो सकता है जो कंप्यूटर नेटवर्किंग अवधारणाओं से परिचित नहीं हैं।
  • ओएसआई मॉडल विभिन्न परतों को लागू करने के तरीके पर विशिष्ट मार्गदर्शन प्रदान नहीं करता है, जो नेटवर्क के निर्माण के लिए डिज़ाइन गाइड के रूप में मॉडल का उपयोग करना चुनौतीपूर्ण बना सकता है।
  • कुछ आलोचकों का तर्क है कि OSI मॉडल बहुत सामान्य है और विभिन्न प्रकार के नेटवर्क की विशिष्ट आवश्यकताओं और आवश्यकताओं को ध्यान में नहीं रखता है।

इन नुकसानों के बावजूद, कंप्यूटर नेटवर्क में संचार कैसे होता है, यह समझने के लिए OSI मॉडल अभी भी एक संदर्भ मॉडल के रूप में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। यह संचार की विभिन्न परतों को समझने के लिए एक उपयोगी ढांचा प्रदान करता है और विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार को सुविधाजनक बनाने के लिए वे एक साथ कैसे काम करते हैं।

इसे भी पढ़ें 👉 Social Bookmarking kya hai और कैसे करते है?

OSI Model और TCP/IP के बीच अंतर

OSI ModelTCP/IP Model
OSI का पूरा नाम open system interconnection है.इसका पूरा नाम transmission control protocol / internet protocol है.
इसे ISO ने विकसित किया है.इसे APRANET ने विकसित किया है.
इसमें 7 लेयर होती है.इसमें 4 layer होती है.
यह मॉडल केवल connection oriented होता है.यह connection oriented और connection less दोनों प्रकार का होता है.
यह vertical एप्रोच को follow करता है.यह horizontal एप्रोच को follow करता है.
इस मॉडल का इस्तेमाल बहुत कम किया जाता है.इस model का उपयोग ज्यादा किया जाता है.

OSI मॉडल की विशेषताएं

ओएसआई (ओपन सिस्टम्स इंटरकनेक्शन) मॉडल में कई विशेषताएं हैं जो संचार के दृष्टिकोण को परिभाषित करती हैं:

1).Layered architecture:- OSI मॉडल को सात परतों में विभाजित किया गया है, जिनमें से प्रत्येक का संचार की प्रक्रिया में एक विशिष्ट कार्य है। यह स्तरित आर्किटेक्चर संचार प्रक्रिया के विभिन्न हिस्सों को अन्य परतों को प्रभावित किए बिना संशोधित या प्रतिस्थापित करने की अनुमति देता है।

2). Protocol independence:- OSI मॉडल को प्रोटोकॉल से स्वतंत्र होने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसका अर्थ है कि इसका उपयोग किसी भी प्रोटोकॉल के साथ किया जा सकता है। इससे विभिन्न तकनीकों और उपकरणों को इंटरऑपरेट करना आसान हो जाता है।

3). Modular design:- OSI मॉडल को मॉड्यूलर होने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसका अर्थ है कि प्रत्येक परत को दूसरों से स्वतंत्र रूप से विकसित और बनाए रखा जा सकता है। इससे नेटवर्क के प्रदर्शन को अपग्रेड करना या सुधारना आसान हो जाता है।

4). Reference model:- OSI मॉडल एक संदर्भ मॉडल है, जिसका अर्थ है कि यह समझने के लिए एक ढांचा प्रदान करता है कि कंप्यूटर नेटवर्क में संचार कैसे होता है। यह एक विशिष्ट नेटवर्किंग मानक या प्रोटोकॉल नहीं है, बल्कि एक मॉडल है जो यह समझने में मदद करता है कि संचार की सुविधा के लिए विभिन्न प्रौद्योगिकियां और प्रोटोकॉल एक साथ कैसे काम करते हैं।

5). International standard:- OSI मॉडल एक अंतरराष्ट्रीय मानक है जिसे दुनिया भर के कई संगठनों द्वारा अपनाया गया है। कंप्यूटर नेटवर्क में संचार कैसे होता है, यह समझने के लिए इसे एक संदर्भ मॉडल के रूप में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

इसे भी पढ़ें 👉 Internet Kya Hota Hai, और कैसे काम करता है?

OSI मॉडल का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है?

ओएसआई (ओपन सिस्टम्स इंटरकनेक्शन) मॉडल एक संदर्भ मॉडल है जिसका उपयोग यह समझने के लिए किया जाता है कि नेटवर्क से जुड़े विभिन्न सिस्टमों के बीच संचार कैसे होता है।

यह एक सैद्धांतिक मॉडल है जो यह समझने के लिए एक ढांचा प्रदान करता है कि संचार कैसे होता है और संचार की सुविधा के लिए विभिन्न प्रौद्योगिकियां और प्रोटोकॉल एक साथ कैसे काम करते हैं।

OSI मॉडल का उपयोग कंप्यूटर नेटवर्किंग, दूरसंचार और सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग सहित कई क्षेत्रों में किया जाता है। यह आमतौर पर कंप्यूटर नेटवर्क में संचार कैसे होता है और संचार समस्याओं के निवारण के लिए समझने के लिए एक संदर्भ मॉडल के रूप में उपयोग किया जाता है।

ओएसआई मॉडल का उपयोग शिक्षा और प्रशिक्षण में भी किया जाता है ताकि छात्रों और पेशेवरों को संचार की विभिन्न परतों को समझने में मदद मिल सके और विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार को सुविधाजनक बनाने के लिए वे एक साथ कैसे काम करते हैं।

कुल मिलाकर, OSI मॉडल एक व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला संदर्भ मॉडल है जो यह समझने के लिए मूल्यवान है कि कंप्यूटर नेटवर्क में संचार कैसे होता है और विभिन्न तकनीकों और उपकरणों के बीच अंतर को सुगम बनाने के लिए।

OSI Layer क्या होता है?

OSI मॉडल की प्रत्येक परत नियमों और प्रोटोकॉल के एक सेट का उपयोग करके ऊपर और नीचे की परत के साथ संचार करती है।

OSI मॉडल विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार को मानकीकृत करने में मदद करता है और संचार समस्याओं का निवारण करना आसान बनाता है।

कंप्यूटर नेटवर्क में संचार कैसे होता है, यह समझने के लिए यह एक उपयोगी संदर्भ मॉडल है।

इसे भी पढ़ें 👉 Word Processing क्या है? और कैसे काम करता है?

Layer protocol क्या हैं?

एक परत प्रोटोकॉल नियमों और मानकों का एक सेट है जो परिभाषित करता है कि OSI (ओपन सिस्टम्स इंटरकनेक्शन) मॉडल की एक विशिष्ट परत पर संचार कैसे होना चाहिए। OSI मॉडल एक ढांचा है जो परिभाषित करता है कि विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार कैसे होना चाहिए। इसमें सात परतें होती हैं, जिनमें से प्रत्येक का संचार की प्रक्रिया में एक विशिष्ट कार्य होता है।

OSI मॉडल की प्रत्येक परत एक परत प्रोटोकॉल का उपयोग करके ऊपर और नीचे की परत के साथ संचार करती है। ये प्रोटोकॉल नियमों को परिभाषित करते हैं कि प्रत्येक परत पर डेटा कैसे प्रसारित, प्राप्त और संसाधित किया जाता है।

परत प्रोटोकॉल के कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:-

1). Physical layer protocols:- ये प्रोटोकॉल परिभाषित करते हैं कि कैसे केबल और स्विच जैसे उपकरणों के बीच भौतिक कनेक्शन पर डेटा प्रसारित किया जाता है। उदाहरणों में ईथरनेट और वाई-फाई शामिल हैं।

2). Data link layer protocols:- ये प्रोटोकॉल परिभाषित करते हैं कि उपकरणों के बीच डेटा कैसे प्रसारित होता है और त्रुटियों का पता कैसे लगाया जाता है और कैसे ठीक किया जाता है। उदाहरणों में HDLC and PPP. शामिल हैं।

3). Network layer protocols:- ये प्रोटोकॉल परिभाषित करते हैं कि डेटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस पर कैसे रूट किया जाता है और डेटा के यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा रास्ता कैसे निर्धारित किया जाता है। उदाहरणों में IP और ICMP शामिल हैं।

4). Transport layer protocols:- ये प्रोटोकॉल परिभाषित करते हैं कि कैसे एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में डेटा को विश्वसनीय और कुशलता से वितरित किया जाता है। उदाहरणों में टीसीपी और यूडीपी शामिल हैं।

5). Session layer protocols:- ये प्रोटोकॉल परिभाषित करते हैं कि उपकरणों के बीच संचार सत्र कैसे स्थापित, बनाए रखा और समाप्त किया जाता है। उदाहरणों में SCTP and SSL शामिल हैं।

6). Presentation layer protocols:- ये प्रोटोकॉल परिभाषित करते हैं कि कैसे डेटा को एक प्रारूप में अनुवादित किया जाता है जिसे एप्लिकेशन परत द्वारा समझा जा सकता है। उदाहरणों में ASCII और UTF-8 शामिल हैं।

7). Application layer protocols:- ये प्रोटोकॉल परिभाषित करते हैं कि नेटवर्क और एप्लिकेशन के बीच संचार कैसे होता है। उदाहरणों में HTTP और FTP शामिल हैं।

कुल मिलाकर, परत प्रोटोकॉल यह परिभाषित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं कि OSI मॉडल की प्रत्येक परत पर संचार कैसे होता है और विभिन्न तकनीकों और उपकरणों के बीच अंतर को सुगम बनाने के लिए।

इस Model को OSI क्यूँ कहा जाता है?

इस model को Open System Interconnection (OSI) इसलिए कहा जाता है क्यूंकि यह model allow करता है किसी दो अलग अलग systems को communicate करने में फिर चाहे उनकी underlying architecture कुछ भी क्यूँ न हो।

इसे भी पढ़ें 👉 Data Science क्या है, और कैसे काम करता है?

OSI layers को कैसे याद रखें?

OSI model में 7 layers होती है उनको याद करना थोडा मुश्किल होता है इसलिए नीचे आपको एक आसान तरीका दिया गया है जिससे कि आप इसे आसानी से याद कर सकें:-

  • P- Pyare (प्यारे)
  • D- Dost (दोस्त)
  • N- Naveen (नवीन)
  • T- tumhari (तुम्हारी)
  • S- Shaadi (शादी)
  • P- Par (पर)
  • A- Aaunga (आऊंगा).

इन OSI Layers को याद रखना सच में इतना आसान नहीं है लेकिन अगर आप एक mnemonic का इस्तमाल करें तब ये बहुत ही आसान हो जाता है। जो की है: “All People Seem to Need Data Processing“।

  • Physical Layer – Processing
  • Data Link Layer – Data
  • Network Layer – Need
  • Transport Layer – To
  • Session Layer – Seem
  • Presentation Layer – People
  • Application Layer – All

OSI Model का उद्देश्य क्‍या हैं?

जब किसी इंफॉर्मेशन को छोटे-छोटे टुकड़ों में बांट दिया जाता है तब उस इंफॉर्मेशन को समझने और किसी दूसरे को समझाने में बहुत ही आसानी होती है यही बात नेटवर्क के लिए भी लागू होती है।

जब कोई नेटवर्क इसी इंफॉर्मेशन को छोटे-छोटे भाग में बांट देता है तो उस इंफॉर्मेशन को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने में बहुत ही आसानी होती है।

OSI मॉडल सात लेयर के एक स्ट्रक्चर्ड सेट को रिप्रेजेंट करता हैं, जो एक दूसरे के साथ कनेक्‍ट होते है। इस मॉडल में प्रत्येक लेयर को डिवाइसेस, कंप्यूटर और नेटवर्क सेग्मेंट्स को कनेक्‍ट करने की क्षमता बनाए रखने के लिए डेवलप किया गया था।

इसे भी पढ़ें 👉 Best 5 Online PNG to SVG converter
इसे भी पढ़ें 👉 Web Security क्या है?

FAQ :-

ओएसआई मॉडल में कितनी लेयर होती हैं?

OSI मॉडल में 7 layers होती हैं?
1). तत्वपूर्ण परिवर्तन स्तर (Physical Layer)
2). डेटा लिंक स्तर (Data Link Layer)
3). नेटवर्क स्तर (Network Layer)
4). ट्रांसपोर्ट स्तर (Transport Layer)
5). सेशन स्तर (Session Layer)
6). प्रतिष्ठा स्तर (Presentation Layer)
7) ऍप्लिकेशन स्तर (Application Layer)

ओ एस आई की फुल फॉर्म क्या है?

OSI मॉडल का फुल फॉर्म Open System Interconnection Model होता हैं।

ओएसआई मॉडल का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है?

ओएसआई मॉडल एक संदर्भ मॉडल है जिसका उपयोग यह समझने के लिए किया जाता है कि नेटवर्क से जुड़े विभिन्न सिस्टमों के बीच संचार कैसे होता है।

ओएसआई मॉडल क्या होता है?

ओएसआई मॉडल एक ढांचा है जो परिभाषित करता है कि विभिन्न प्रणालियों के बीच संचार कैसे होना चाहिए। यह एक संदर्भ मॉडल है जो यह समझने में मदद करता है कि नेटवर्क से जुड़े दो या दो से अधिक उपकरणों के बीच संचार कैसे होता है।

ओएसआई का क्‍या अर्थ हैं?

OSI का अर्थ Open Systems Interconnection होता हैं।